शनिवार, 15 अगस्त 2009

आजादी कैसी आजादी


खून सने गलियारे देखे
भूखे लोगो को बहकाते
नेताओ के भाषण देखे
गंदी नजरो से बचने को
अबलाओं के तन मन देखे
धनवानों के गलियारों में
भूखे नंगे बच्चे देखे
ताकतवर है मौज मनाते
ठोकर खाते निर्बल देखे
बदल सके हालात अगर
तब सच्ची आजादी देखे

आप सभी को स्‍वतंत्रता दिवस की बहुत बहुत शुभकामनायें
नन्दिता

15 टिप्‍पणियां:

  1. badhia kataaksh kiya ha aapne......sundar rachana.


    aapko swatantrata diwas ki haardic shubhkaamnaaye. aabhaar.

    उत्तर देंहटाएं
  2. ६२ साल प्रतीक्षा की है...... और कीजिये.....
    अच्छी रचना के लिए बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  3. स्‍वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  4. satya aapki kavita me humne dekha aaj khuda kare ki aap aise hi likhati rahe such kaha hai aapne ki ye neta hai hi kaminey

    ----- eksacchai
    {AAWAZ}

    http://eksacchai.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. सोचने को मजबूर करती आपकी पोस्ट.................. लाजवाब लिखा है.........

    उत्तर देंहटाएं
  6. आप सभी का बहुत बहुत आभार

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेबाकी से लिखने कि आजादी...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बदल सके हालात अगर
    तब सच्ची आजादी देखे............vaah.....dubara padhne par kuchh aur acchhi lagi.....!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही अच्छी रचना
    बहुत-२ आभार

    उत्तर देंहटाएं
  10. wakayi me behtareen rachna...
    agli rachnaon ka intzaar rahega.....

    उत्तर देंहटाएं